• web development India, website developers in usa
  • web development India

विपश्यना भारत की एक अत्यंत पुरातन साधनाओंमेंसे एक ध्यान प्रणाली विधि है। जिसका अर्थ जो जैसा है, उसे ठीक वैसा ही देखना-समझना है। लगभग २५०० वर्ष पूर्व भारत में यह पद्धति एक सार्वजनीन रोग के सार्वजनीन इलाज, अर्थात् जीवन जीने की कला, के रूप में सिखाया गया। जिन्हें विपश्यना साधना की जानकारी नहीं है, उनके लिए आचार्य गोयन्काजी द्वारा विपश्यना का परिचय विडियोमें एवं प्रश्न एवं उत्तर उपलब्ध है।

शिविरे

विपश्यना दस-दिवसीय आवासी शिविरों में सिखायी जाती है। शिविरार्थी दस दिनों में साधना की रूपरेखा समझते है एवं इस हद तक अभ्यास कर सकते है कि साधना के अच्छे परिणामों का अनुभव कर सकें। शिविर का कोई शुल्क नहीं लिया जाता, रहने एवं खाने का भी नहीं। शिविरों का पूरा खर्च उन साधकों के दान से चलता है जो शिविर से लाभान्वित होकर दान देकर बाद में आने वाले साधकों को लाभान्वित करना चाहते हैं।

स्थान

शिविरों का संचालन कई विपश्यना केंद्रों पर तथा अस्थायी जगहों पर किया जाता है। हर जगह का अपना शिविर कार्यक्रम होता है। बहुंताश जगहों के शिविरों के लिए आवेदन शिविर कार्यक्रम में उचित दिनांक पर क्लिक करके किया जा सकता है। यहापे बहोतसारी केन्द्र हैभारत एवं एशिया/पेसिफिक में अन्य जगहों में कईएक; उत्तर अमेरिका में दस; लेटिन अमेरिका में तीन; यूरोप में आठ; ऑस्ट्रेलिया एवं न्यूज़ीलेंड में सात; मध्यपूर्व में एक एवं आफ्रिका में एक केंद्र है। दस दिवसीय शिविर कई बार केंद्रों के बाहर कई जगहों पर स्थानिक साधकों द्वारा आयोजित किये जाते हैं। इन विश्व भर के शिविरों की अल्फाबेटीकल सूचि तथा शिविर स्थलों का ग्राफिकल इंटरफेस विश्व एवं भारत तथा नेपाल के लिए भी उपलब्ध है।